अमेरिका से बहुत बड़ी ख़बर, पहली कोविड-19 वैक्सीन का शुरुआती ह्यूमन ट्रायल सफल
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

First COVID-19 vaccine tested in the US shows positive results in initial data from 8 people

क्या अमेरिका को कोविड-19 का उपचार मिल गया है?

रॉयटर्स की एक ख़बर के मुताबिक अमेरिका की जैव-प्रोद्यौगिकी कंपनी मॉडर्ना इंक (Moderna Inc) ने देश की पहली वैक्सीन का परीक्षण करने का दावा किया है और कहा है कि 8 लोगों पर इसके शुरुआती परीक्षण के परिणाम बेहद उत्साहवर्द्धक रहे हैं।

कंपनी ने सोमवार (18 मई 2020) को बताया कि स्वस्थ स्वयंसेवकों के एक छोटे ग्रुप पर किए गए इस परीक्षण से पता चला कि इस वैक्सीन ने उनके भीतर सुरक्षात्मक एंटीबॉडी का उत्पादन करने में सफलता पाई।

ये आंकड़े उन आठ लोगों से मिले हैं, जिन्होंने मार्च के महीने में एक सुरक्षा ट्रायल में हिस्सा लिया था। मॉडर्ना की यह वैक्सीन दुनिया भर में 100 से अधिक अंडर डेवलपमेंट वैक्सीन में से एक है, जो दुनिया को नोवल कोरोना वायरस से बचाने के लिए प्रायोगिक दौर में हैं।

कंपनी के मुताबिक, इस परीक्षण के परिणामों से पता चला कि वैक्सीन सुरक्षित है और सभी प्रतिभागियों के शरीर में इस वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी का उत्पादन हुआ।

आठ व्यक्तियों में इस वैक्सीन की प्रतिक्रिया के विश्लेषण से पता चला कि जिन लोगों को 100 माइक्रोग्राम की खुराक और 25 माइक्रोग्राम की खुराक मिली थी, उनमें वायरस से बचाव के लिए सुरक्षात्मक एंटीबॉडी का स्तर उन लोगों की तुलना में अधिक था, जो कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी COVID-19 से ठीक हो गए थे।

एक्सपर्ट के मुताबिक परीक्षण परिणाम बेहद शुरुआती

हालांकि जॉन्स हॉपकिंस सेंटर फ़ॉर हेल्थ सिक्योरिटी में संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. अमेश अदलजा के मुताबिक, “ये निष्कर्ष महत्वपूर्ण हैं, लेकिन यह पहले चरण का ही नैदानिक ​​परीक्षण है, जिसमें केवल आठ लोग शामिल हैं। इसे सुरक्षा के लिए डिजाइन किया गया था, प्रभावकारिता के लिए नहीं।” यहां यह बताना भी जरूरी है कि डॉ. अमेश अदलीजा इस परीक्षण में शामिल नहीं थे।

अदलजा ने कहा कि हज़ारों लोगं पर असर के लिहाज से वर्तमान समय और जब इस वैक्सीन का परीक्षण किया गया है, दोनों के बीच कई सारे ग्लिच हो सकते हैं। हालांकि हम जो देख रहे हैं, वह उत्साहजनक है।

दरअसल, वैज्ञानिक अभी यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर एंटीबॉडी का कौन-सा स्तर नोवल कोरोना वायरस के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर सकता है और यह कितने समय तक काम कर सकता है।

जुलाई में होगा आखिरी दौर का परीक्षण

मॉडर्ना ने कहा कि जिन लोगों को 100 mcg की खुराक दी गई, उनके शरीर में ज्यादा एंटीबॉडी का उत्पादन हुआ और जिन लोगों को कम खुराक दी गई, उनमें कम एंटीबॉडी का उत्पादन हुआ।

कंपनी के मुताबिक, इस वैक्सीन को मानव परीक्षण का दूसरा चरण शुरू करने के लिए हरी झंडी मिल गई है। पिछले सप्ताह, अमेरिकी नियामकों ने वैक्सीन को फास्ट ट्रैक स्टेटस भी दे दिया है, ताकि इसकी नियामक समीक्षा (रेगुलेटरी रिव्यू) में अनावश्यक देरी न हो।

कंपनी के मुताबिक, इस वैक्सीन का बड़े स्केल पर परीक्षण यानी फेज-III टेस्टिंग जुलाई में शुरू होने की उम्मीद है।

परीक्षण सफल रहा तो हर महीने लाखों डोज़ का उत्पादन संभव

अमेरिकी सरकार ने अप्रैल में, मॉडर्ना पर एक बड़ा दांव लगाया था और इसे वैक्सीन पर काम करने के लिए 483 मिलियन डॉलर की सहायता दी थी। कंपनी ने कहा कि अगर वैक्सीन सफल हो जाती है तो इस अनुदान की बदौलत वह इस साल यानी 2020 में प्रति माह दसियों लाख खुराक की आपूर्ति करने में सक्षम होगी और 2021 में हर महीने करोड़ों खुराक का उत्पादन किया जा सकेगा।

मॉडर्न के मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्टीफन बंसेल ने कहा, “हम मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ाने के लिए निवेश कर रहे हैं ताकि हम SARS-CoV-2 से अधिक से अधिक लोगों को बचाने के लिए खुराक बना सकें।

कंपनी के शेयर 22 प्रतिशत उछले

कंपनी द्वारा इस बारे में प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यह खबर दी गई है। इसके बाद मॉडर्ना के शेयरों में 22% से अधिक उछाल आ गया, जिससे अमेरिकी शेयर मार्केट को भी काफी बढ़त मिली।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!