आपके ब्लड ग्रुप से कोरोना का कोई लेना देना नहीं, पढ़ें क्या कहती है यह ताज़ा रिसर्च?
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

COVID-19 Risk Doesn’t Depend much on Blood Type, New Studies Find

दुनिया भर में जब कोरोना वायरस (Corona virus) के संक्रमण (infection) की वजह से होने वाली बीमारी COVID-19 ने अपने पांव पसारने शुरू किये, तो कुछ जांच के आधार पर यह दावा किया जाने लगा था कि कुछ ब्लड ग्रुप (Blood Groups) वाले लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा अधिक है और कुछ ब्लड ग्रुप वाले इसकी वजह से गंभीर रूप से बीमार पड़ सकते हैं। हालांकि, कई माह तक वैज्ञानिकों ने इस पर शोध (research) करने के बाद पाया है कि ब्लड ग्रुप और कोविड-19 के बीच किसी तरह का कोई रिश्ता नहीं है।

दो अध्ययनों में हुआ खुलासा

  • दो अध्ययन इसे लेकर हुए हैं। एक अध्ययन Massachusetts General Hospital ने किया है। वहीं दूसरा अध्ययन न्यू याॅर्क स्थित Columbia Presbyterian Hospital ने किया है।
  • दोनों ही अध्ययनों में यह साफ हो गया है कि ब्लड ग्रुप A वाले लोगों को ही विशेष रूप से कोरोनावायरस के संक्रमण का खतरा अधिक नहीं है।
  • नई रिपोर्ट में इस बात के कुछ प्रमाण जरूर मिले है कि ब्लड ग्रुप O वाले लोग संक्रमण का शिकार कुछ कम हो रहे हैं, मगर कोलंबिया यूनिवर्सिटी (Columbia University) में डाटा साइंटिस्ट Nicholas Tatonetti के मुताबिक यह प्रभाव इतना कम है कि इसे गिना नहीं जा सकता।

वेंटिलेटर्स पर डालने की जरूरत कम

  • Dr. Tatonetti ने ग्रेजुएशन स्टूडेंट Michael Zietz के साथ मिलकर कोरोनावायरस पाॅजीटिव पाये गये 7,770 लोगों के रिकाॅर्ड की समीक्षा की और पाया कि ब्लड ग्रुप A वाले लोगों को वेंटिलेटर्स पर डालने की जरूरत कम थी।
  • ब्लड ग्रुप AB वाले लोगों पर खतरा अधिक था। लेकिन इन वैज्ञानिकों का दावा है कि इन परिणामों पर यकीन इसलिए नहीं किया जा सकता कि इस ब्लड ग्रुप के मुताबिक विश्लेषण करने में मरीजों की संख्या बहुत ही कम रही है।
  • दोनों शोधकर्ताओं ने Columbia Presbyterian Hospital के 1,559 मरीजों से प्राप्त परिणामों को बीते अप्रैल में पेश किया था।
  • एक वैज्ञानिक जर्नल में प्रकाशन के लिए इसकी समीक्षा चल रही है।

Massachusetts General Hospital का अध्ययन

  • एक और अध्ययन जो Massachusetts General Hospital में हुआ है, इसकी तस्वीर थोड़ी अलग रही है।
  • शोधकर्ताओं ने यह जरूर पाया कि Blood Group O वाले लोगों के COVID-19 की चपेट में आने की संभावना कम थी, मगर यह साबित नहीं हो सका कि ब्लड ग्रुप यह निर्धारित करता है कि लोगों को वेंटिलेटर (ventilators) पर डालने की जरूरत पड़ेगी या नहीं या फिर वे बच पाएंगे या नहीं।
  • हाॅस्पीटल में vascular surgeon के तौर पर सेवा देने वाली और अध्ययन की वरिष्ठ लेखिका अनहिता दुआ (Anahita Dua) ने बताया कि जो मरीज COVID-19 positive पाये गये हैं, ब्लड ग्रुप के आधार पर उनके खतरे का आकलन नहीं किया जा सकता।
  • जर्मनी में University Medicine Rostock स्थित Institute for Medical Genetics के निदेशक Joern Bullerdiek ने कहा कि इस पेपर से यह तो लगभग यह तो तय हो ही गया है कि कोविड-19 को ब्लड ग्रुप बिल्कुल भी प्रभावित नहीं कर रहा है।

भूमिका नहीं, मगर फिर भी जरूरी

  • यह बात जरूर है कि COVID-19 के शिकार मरीजों के इलाज में भले ही ब्लड ग्रुप की कोई भूमिका न हो, मगर बीमारी की प्रकृति के बारे में तो कई चीजों का खुलासा यह कर ही रहा है।
  • वह इसलिए कि ब्लड ग्रुप संक्रमण के खिलाफ आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित करता है। जिन लोगों का ब्लड ग्रुप A है, उनके शरीर में उसी तरह के एंटीबाॅडी नहीं बनते जैसे कि ब्लड ग्रुप B वालों के शरीर में बनते हैं।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!