जानिए, HIV मरीजों को कितना है कोरोना का खतरा?
कृपया शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

कोरोना क्विक अपडेट

  • स्वास्थ्य मंत्रालय के 14 मार्च 2021 के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में अभी कोरोना के 210544 एक्टिव केस हैं, 10989897 लोग ठीक हो चुके हैं और 158607 की मृत्यु हो चुकी है।
  • वेबसाइट वर्ल्डमीटर्स.इनफो के मुताबिक, भारत कोरोना से मृत्यु के मामले में अमेरिका, ब्राजील और मेक्सिको के बाद चौथे स्थान पर है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना से पूरी दुनिया के 223 देशों और इलाकों में अब तक 118,754,336 लोग संक्रमित हुए हैं और 26,34,370 लोग दम तोड़ चुके हैं।
  • कोरोना के बारे में अफवाहों से बचने और पल-पल की सही जानकारी व ख़बरें प्राप्त करने के लिए जुड़े रहें https://tanman.org/ के साथ।

How much is the risk of COVID-19 for HIV patients?

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण का खतरा तो दुनिया की समूची आबादी पर मंडरा रहा है, मगर कुछ लोगों को इसका खतरा कुछ ज्यादा ही है। जो लोग HIV के शिकार हैं, उन्हें COVID-19 का कितना खतरा है, यह भी एक बड़ा सवाल है, जिसका जवाब लोग ढूंढ़ रहे हैं।

वैसे तो अब तक यह साफ नहीं हो पाया है कि HIV मरीजों को कोरोना का कितना खतरा है, मगर फिर भी इससे जुड़े कई सवालों के जवाब लोग चाहते हैं। ऐसे में यहां हम आपको ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब WHO और सेंटर फाॅर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंटेशन (CDC) के अनुसार दे रहे हैं।

क्या अन्य लोगों की तुलना में HIV मरीजों को कोरोना का खतरा अधिक है?

  • वर्तमान में इसे लेकर कोई पुख्ता जानकारी उपलब्ध नहीं है।
  • जिन HIV मरीजों में CD4 सेल काउंट धीमी है, उन्हें खतरा अधिक है।
  • जो HIV मरीज एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी यानी कि ART वाला इलाज नहीं करा रहे हैं, उनके लिए भी रिस्क अधिक है।
  • एचआईवी के मरीजों के अस्वस्थ होने की वजह से और कई बार अपनी उम्र व अन्य मेडिकल परिस्थिति की वजह से उनके कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार होने की आशंका अधिक रहती है।

HIV मरीजों को खुद को COVID-19 से बचाने के लिए क्या करना चाहिए?

  • COVID-19 की कोई दवा या टीका उपलब्ध नहीं है। इसलिए इस वायरस के संपर्क से बचना ही इलाज है।
  • बाकी लोगों की तरह एचआईवी मरीजों को भी रोजाना सावधानी बरतने की जरूरत है।
  • HIV मरीजों को एक स्वस्थ जीवनशैली बनाये रखने की जरूरत है।
  • उन्हें उचित आहार लेना चाहिए।
  • हर दिन कम-से-कम आठ घंटे की नींद लेनी चाहिए।
  • जितना संभव हो सके अपने दबाव को कम रखना चाहिए।
  • स्वस्थ रहने से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहेगी, जिससे संक्रमण से लड़ना आसान होगा।
  • यदि आप एक HIV मरीज हैं, तो जो इलाज आपका चल रहा है या फिर जो दवाई आप ले रहे हैं, उसे आपको जारी रखना चाहिए। अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर के अनुसार आपको इसे जारी रखना चाहिए। अपने रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाये रखना का यह सबसे बेहतर तरीका है।

मैं क्या करूं यदि मुझे यह शक हो कि मैं COVID-19 की जद में हूं?

  • यदि आपको शक है कि आप कोविड-19 की चपेट में आ गये हैं और आपको इसके लक्षण नजर आ रहे हैं तो आप तुरंत अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर को फोन करके इसके बारे में बताएं।
  • उनसे यह सलाह लें कि आपको इसे किस तरीके से दिखाना है और इलाज कराना है। साथ ही उनसे यह भी जान लें कि दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए आपको क्या करना चाहिए।

HIV के जिन मरीजों को COVID-19 का शिकार का खतरा अधिक है, उन्हें खुद को बचाने के लिए और क्या करना चाहिए?

  • यह सुनिश्चित कर लें कि जो HIV की दवाई आप ले रहे हैं, उसका कम-से-कम 30 दिनों का स्टाॅक आपके पास है। साथ ही एचआईवी को नियंत्रित करने वाली जरूरी सुविधाएं भी आपकी पहुंच में हैं।
  • अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर से बात करते रहें। ध्यान रखें कि आपका टीका एकदम अप-टू-डेट हो। इसमें मौसमी इन्फ्लुएंजा और बैक्टीरियल न्यूमोनिया के टीके भी शामिल हैं, क्योंकि एचआईवी से संक्रमित मरीजों को हमेशा इनका खतरा बना रहता है।
  • कई हफ्तों के लिए यदि आपको घर में रहना है तो क्लीनिकल केयर की योजना आप तैयार रखें। एचआईवी का इलाज आप जिनसे भी करवा रहे हैं, उनसे फोन पर या फिर online संपर्क करते रहें।
  • सोशल मीडिया और फोन पर अपने दोस्तों से जुड़े रहें, ताकि इस वक्त आपको मानसिक तौर पर तनाव न हो। HIV मरीजों को इस पर इस वक्त विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है।
  • दरअसल कई बार एचआईवी मरीजों को दोस्तों, परिवार वालों, पड़ोसियों, सामुदायिक स्वास्थ्यकर्मियों और अन्य लोगों से अधिक मदद की जरूरत होती है। यदि आप बीमार पड़ जाते हैं तो यह सुनिश्चित करें कि इन सभी से आप फोन या ईमेल के जरिये जुड़े रहें।

क्या HIV की दवा (ART) का इस्तेमाल COVID-19 को भी ठीक करने में किया जा सकता है?

  • HIV की कुछ दवाओं जैसे कि lopinavir-ritonavir के COVID-19 पर होने वाले प्रभावों की जांच की जा रही है।
  • चीन में क्लिनिकल ट्रायल के परिणामों में पता चला कि इन दवाओं के इस्तेमाल से कोविड-19 के मरीजों के उपचार में कोई तेजी नहीं आई। साथ ही कोविड-19 की वजह से अस्पताल में भर्ती मरीजों में फेफड़ों के संक्रमण को बढ़ावा देने वाले वायरस को भी घटाने में ये नाकाम रहे।
  • जब तक इस बारे में स्पष्ट तौर पर और जानकारी नहीं आती है, तब तक कोविड-19 के इलाज के लिए एचआईवी की दवाओं का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

क्या HIV की दवा (ART) या pre-exposure prophylaxis (PrEP) की कमी हो सकती है?

  • अब तक इनकी कमी की कोई खबर तो सामने नहीं आई है।
  • अलग-अलग देशों की सरकारें और एजेंसियां यह सुनिश्चित करने में जुटी हैं, इनकी सप्लाई हमेशा की तरह जारी रहे।

क्या HIV के मरीजों को इस वक्त यात्रा करनी चाहिए?

  • कोरोना वायरस का संक्रमण हर ओर फैला है, ऐसे में कहीं की यात्रा न ही करें तो बेहतर होगा।
  • यदि कोई इमरजेंसी है तो ही यात्रा करें और स्थानीय नियमों का पालन करते हुए और अपनी सुरक्षा का ध्यान रखते हुए।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!