क्या कोरोना के मामले में नंबर वन बनने की ओर बढ़ चला भारत? अब केवल अमेरिका, ब्राजील, रूस ही आगे
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

India reaches to 4th place in terms of total cases and active cases of COVID-19

नई दिल्ली, 12 जून। भारत में कोरोना के आंकड़े बता रहे हैं कि दिन प्रतिदिन हालात बिगड़ते जा रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब तक कुल 2,97,535 लोग संक्रमित पाए गए हैं। इनमें 1,41,842 एक्टिव केस हैं, जबकि 8,498 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। हालांकि 1,47,195 लोग संक्रमित होने के बाद ठीक भी हो चुके हैं।

कुल केस के मामले में चौथे स्थान पर पहुंचा भारत

इसके साथ ही कोरोना संक्रमण के कुल मामलों के लिहाज से भारत दुनिया में चौथे स्थान पर आ गया है। अब उससे आगे केवल अमेरिका, ब्राज़ील और रूस ही हैं। वेबसाइट वर्ल्डमीटर्स.इनफो के मुताबिक,

  • अमेरिका में अब तक संक्रमण के कुल 2,089,701 मामले सामने आए हैं
  • ब्राज़ील में संक्रमण के कुल 8,05,649 मामले सामने आए हैं
  • रूस में संक्रमण के कुल 5,02,436 मामले सामने आए हैं
  • जबकि भारत में अब तक कुल 2,97,535 मामले सामने आए हैं

एक्टिव केस के मामले में पहले से चौथे स्थान पर है भारत

आपको बता दें कि एक्टिव केस के मामले में भारत पहले से ही दुनिया में चौथे नंबर पर बना हुआ है। एक्टिव केस की संख्या के मामले में भी केवल अमेरिका, ब्राज़ील और रूस ही भारत से आगे हैं। इस वक्त

  • अमेरिका में 1,157,581 एक्टिव केस हैं
  • ब्राज़ील में 367,899 एक्टिव केस हैं
  • रूस में 234,754 एक्टिव केस हैं
  • भारत में 1,41,842 एक्टिव केस हैं

कोरोना जांच की धीमी रफ्तार

वर्ल्डमीटर्स.इनफो के मुताबिक, कोरोना जांच के मामले में भी भारत चौथे स्थान पर है।

  • 33 करोड़ की आबादी वाले अमेरिका में 2 करोड़ 30 लाख से अधिक लोगों की जांच हो चुकी है।
  • 14.5 करोड़ की आबादी वाले रूस में 1 करोड़ 38 लाख से अधिक लोगों की जांच हो चुकी है।
  • 6.78 करोड़ की आबादी वाले ब्रिटेन में 62 लाख से अधिक लोगों की जांच हो चुकी है।
  • 137 करोड़ की आबादी वाले भारत में करीब 53 लाख लोगों की जांच ही हुई है।

इस प्रकार देखा जाए, तो एक्टिव मामलों की तेज़ी से बढ़ती संख्या और कोरोना जांच की धीमी रफ्तार आने वाले दिनों में भारत के सामने गंभीर संकट पैदा कर सकती है।

दिल्ली और मुंबई में पहले ही बिगड़ चुके हैं हालात

दिल्ली और मुंबई जैसे महानगरों से पहले ही भयावह तस्वीरें सामने आ रही हैं। इन महानगरों की जमीनी सच्चाई आज यह है कि जहां सरकारी अस्पतालों में पर्याप्त बेड और सुविधाओं की कमी है, वहीं प्राइवेट अस्पताल इस आपदा को कमाई के अवसर में बदल लेना चाहते है। इन महानगरों में न तो सभी लोगों की जांच हो पा रही है, न ही सभी लोगों को उचित इलाज मिल पा रहा है।

इसलिए भारत में अब जो सरकारी आंकड़े आ रहे हैं, ज़रूरी नहीं कि वे संक्रमण की सही तस्वीर पेश कर रहे हों। हो सकता है कि संक्रमण वास्तव में उससे कहीं ज्यादा हो, जितना सरकारी आंकड़ों में दिखाई दे रहा है।

तनमन.ओआरजी की सलाह

ऐसे में तनमन.ओआरजी देश के सभी नागरिकों से अपील करता है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए इन 11 सूत्रों पर अमल भूल से भी न छोड़ें-

  1. जब तक अनिवार्य न हो, घर से बाहर नहीं निकलें।
  2. जब भी घर से बाहर निकलें, चेहरे पर अच्छे मास्क जरूर लगाएं।
  3. घर से बाहर जब भी कुछ छुएं, हाथ में सेनिटाइजर अवश्य लगाएं या इसे साबुन से अवश्य धोएं।
  4. घर से बाहर अपने हाथों से अपने चेहरे को बार-बार न छुएं।
  5. सोशल डिस्टेन्सिंग का कठोरता से पालन करें। बेहतर सुरक्षा के लिए इसे दो गज की बजाय पांच गज मानकर चलें, क्योंकि कई मामलों में कोरोना संक्रमित के इर्द-गिर्द 4 मीटर तक वायरस की मौजूदगी पाई गई है।
  6. घर लौटने पर अपने चप्पल-जूते बाहर ही सेनेटाइज करें, कपड़े डिटर्जेंट से धो डालें और खुद भी अच्छी तरह साफ हो लें।
  7. बचाव के लिए भारत सरकार के आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन के मुताबिक आयुर्वेदिक काढ़ा वगैरह का सेवन करते रहें।
  8. शरीर की फिटनेस बनाए रखने के लिए योग, व्यायाम और प्राणायाम नियमित रूप से करते रहें।
  9. संक्रमण का ज़रा भी संदेह होने पर हेल्पलाइन नंबरों पर सरकार और प्रशासन को सूचित करें और उनसे स्वास्थ्य सहायता मांगें।
  10. आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड कर उसमें अपने स्वास्थ्य की सही जानकारी दर्ज करें।
  11. खुद तो जागरूक रहें ही, दूसरों को भी जागरूक करते रहें, ताकि वे भी अपना बचाव कर सकें।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!