मत्स्य पुराण के मुताबिक यात्रा पर निकलते समय ये 11 चीजें देखना शुभ और ये 11 चीजें देखना अशुभ!
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

Matsya Purana: 11 Auspicious and Inauspicious indications while leaving for journey

जैसा कि आप यह तो जानते ही होंगे कि मत्स्य अवतार भगवान विष्णु का प्रथम अवतार माना जाता है। इस अवतार में भगवान मत्स्य ने वैवस्वत मनु को अनेक विषयों पर गूढ़ ज्ञान दिए हैं, जो मत्स्य पुराण में संकलित माना जाता है।

आइए, आज हम आपको बताते हैं कि भगवान मत्स्य ने यात्रा को लेकर शुभ-अशुभ संकेतों के बारे में वैवस्वत मनु को क्या बताया था।

मत्स्य पुराण के प्रसंग के मुताबिक, जब वैवस्वत मनु ने भगवान मत्स्य से शुभ-अशुभ लक्षणों और उनके दोष निवारण के बारे में पूछा, तो अनेक चीजों के बारे में बताते हुए उन्होंने यात्रा के संदर्भ में शुभ-अशुभ संकेतों और उनके दोष-निवारण के बारे में भी बताया।

यात्रा पर निकलते समय ये 11 चीजें देखना अशुभ

इस प्रसंग के अनुसार, भगवान मत्स्य ने कहा कि किसी यात्रा की शुरुआत करते समय निम्नलिखित 11 चीज़ों को देखना दुर्भाग्य का सूचक होता है-

  1. सूखा गोबर
  2. इंधन की लकड़ियां
  3. कोई नग्न व्यक्ति
  4. मैले कुचैले वस्त्र पहना हुआ व्यक्ति
  5. पागल व्यक्ति
  6. कुत्ते का भक्षण करने वाला
  7. कूड़े का ढेर
  8. गर्भवती स्त्री
  9. खोपड़ी
  10. मृत शरीर
  11. राख

यात्रा पर निकलते समय ये संकेत भी अशुभ

इसके बाद भगवान मत्स्य ने यात्रा के लिए निकलते समय अन्य कई चीजों को शुभ-अशुभ के रूप में वर्णित किया है। जैसे

  1. यदि “आओ” शब्द सामने से सुनाई दे तो यह शुभ होता है, लेकिन यदि यह पीछे से सुनाई दे तो यह अपशगुन होता है।
  2. यदि “मत जाओ”, “तुम कहां जा रहे हो?” या “जाने से भला क्या फायदा?” जैसी बातें सुनाई दें, तो ये अपशगुन होती हैं।
  3. यदि घर से बाहर जाते समय व्यक्ति का सिर दरवाजे की चौखट से टकरा जाए तो इसे अपशगुन माना जाता है।

ऐसे करें अपशगुन का निवारण

अपशगुन का निवारण करने के उपायों के बारे में भी भगवान मत्स्य ने वैवस्वत मनु को बताया। उन्होंने कहा कि यदि यात्रा के लिए निकलते समय व्यक्ति को अपशगुनकारी लक्षण दिखाई दें, तो उसे भगवान विष्णु की प्रार्थना करनी चाहिए और फिर यात्रा पर आगे बढ़ना चाहिए। लेकिन यदि इसके बाद भी कोई दूसरा अपशगुनकारी लक्षण दिखाई दे, तो यात्रा पर जाने का विचार छोड़ देना चाहिए और घर लौट जाना चाहिए।

यात्रा पर निकलते समय ये 11 चीजें देखना शुभ

भगवान मत्स्य ने वैवस्वत मनु को यात्रा की शुरुआत करते समय शुभ लक्षणों के बारे में भी बताया। इसके मुताबिक यात्रा पर निकलते समय ये 11 चीजें देखना शुभ होता है-

  1. जल से भरा कलश
  2. गायें, घोड़े, हाथी और बकरियां
  3. मित्र
  4. ब्राह्मण
  5. प्रज्ज्वलित अग्नि
  6. नृत्य करतीं कन्याएं
  7. ताज़ा गोबर
  8. सोने-चांदी
  9. घी, दही और दूध
  10. फल
  11. रत्न

कुछ भी प्रिय दिखे, तो मंगलमय होती है यात्रा!

मत्स्य पुराण में वैवस्वत मनु को भगवान मत्स्य द्वारा दिए गए इस उपदेश के मुताबिक यात्रा आरंभ करते समय व्यक्ति यदि कुछ ऐसा देखता है जो उसे प्रिय हो और उसे अपने चित्त में संतोष का अनुभव हो, तो यह यात्रा के मंगलमय होने की पूर्व सूचना होती है।

तो दोस्तो, हमारी ये कहानी आपको कैसी लगी? अपनी राय हमें ज़रूर बताएं और इसे अन्य लोगों के साथ भी शेयर करें। साथ ही, अगर आप किसी ख़ास विषय या परेशानी पर आर्टिकल /वीडियो चाहते हैं, तो हमें ज़रूर बताएं। हम यथाशीघ्र आपके लिए उस विषय पर आर्टिकल /वीडियो लेकर आएंगे। धन्यवाद।



error: Content is protected !!