पेट की गैस के कारण, लक्षण, 7 असरदार घरेलू उपाय और टॉप 10 सावधानियां
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

Home remedies and precautions for Stomach Gas Problem

पेट में गैस होना आजकल एक बहुत ही आम समस्या बन गई है। जब पेट में गैस बनती है तो उसका दर्द इतना परेशान करता है कि कई बार सांस लेना तक मुश्किल हो जाता है। न केवल पेट में भारीपन महसूस होने लगता है, बल्कि दर्द के साथ आंखों में जलन और उल्टी तक की शिकायत होती है। यहां तक कि सिर दर्द भी होने लगता है। भले ही यह केवल गैस होती है, लेकिन इसकी वजह से अल्सर, एसिडिटी और कब्ज जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं।

इसलिए इस लेख में हम आपको पेट में गैस बनने की वजहों के साथ इसके लक्षण और घरेलू इलाज आदि के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

पेट की गैस क्या है? (What is the Stomach Gas Problem)

म्यूकोसा जो कि पेट की अंदरूनी परत होती है, उसमें छोटी-छोटी कई ग्रंथियां मौजूद रहती हैं। इसमें स्टमक एसिड और पेप्सिन नाम की दो एंजाइम का निर्माण होता है। जहां भोजन को पचाने का काम स्टमक एसिड करता है, वहीं प्रोटीन को पचाने का काम पेप्सिन करता है। पेट की इसी अंदरूनी परत में जब किसी तरह से सूजन पैदा हो जाती है, तो पेट में गैस बनना शुरू हो जाता है। ऐसे में ना तो स्टमक एसिड और ना ही पेप्सिन का उत्पादन ठीक से हो पाता है।

इन कारणों से बनती है पेट में गैस (Reasons behind Stomach Gas Problem)

  • ज्यादा शराब पीने से।
  • चाय व कॉफी का सेवन अधिक करने से।
  • फाइबर युक्त पदार्थ अधिक खाने से।
  • बाइल एसिड के पेट में जमाव की वजह से।
  • तनाव अधिक पालने से।
  • इबुप्रोफेन और एस्प्रिन जैसी दवाओं के सेवन की वजह से।
  • कोकीन की लत होने से।
  • दूध या फिर दूध के उत्पादों को पचा नहीं पाने से।
  • डायबिटीज की समस्या होने पर।
  • आंतों में सूजन आ जाने पर।
  • आंखों में जलन होने पर।
  • हेलीकोबेक्टर पाइलोरी नामक संक्रमण पेट में हो जाने से।
  • शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के कमजोर होने के कारण वायरल संक्रमण की वजह से।

पेट में गैस होने के लक्षण (Symptoms of Stomach Gas Problem)

  • गैस का बार-बार बनना।
  • पेट का फूल जाना।
  • उल्टी का एहसास बार-बार होना।
  • खट्टी डकार आना।
  • पेट में ऐठन की शिकायत होना।
  • कम भूख लगना।
  • हिचकी लगातार आना।
  • कब्ज की शिकायत होना।
  • बुखार कभी-कभी आ जाना।
  • मल के रंग में बदलाव आना।
  • मल के साथ खून आना।
  • गैस निकलने के दौरान बदबू भी आना।

ध्यान रहे कि यदि कब्ज की शिकायत हो गई है और मल का रंग भी बदल गया है और साथ में खून भी आने लगा है तो समझ लेना चाहिए कि पेट की गैस ने गंभीर रूप ले लिया है। ऐसे में आपको तुरंत इसका इलाज कराना चाहिए।

पेट में गैस की समस्या को दूर करने के टॉप 7 घरेलू उपाय (Top 7 Home remedies for Stomach Gas Problem)

(1) नारियल पानी से

  • नारियल पानी में बहुत सारे विटामिन पाए जाते हैं। पोषक तत्वों की भी इसमें प्रचुरता होती है।
  • इसके अलावा एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण भी नारियल पानी में होते हैं। इससे पेट में गैस के कारण जो सूजन पैदा हो जाती है, वह ठीक होती है।
  • गैस की समस्या होने पर गैस की दवा की जगह नारियल पानी दिन में किसी भी समय पीना उचित होता है।
  • यदि दिन भर में आप तीन से चार गिलास नारियल पानी पी जाते हैं तो यह बड़ा ही फायदेमंद होता है।

(2) अदरक से

  • आयुर्वेदिक औषधि के तौर पर भी अदरक की पहचान है।
  • इसमें एंटीइन्फ्लेमेटरी के साथ एंटीबैक्टीरियल गुण भी मौजूद होते हैं।
  • पेट में जो हेलीकोबेक्टर पाइलोरी नाम का संक्रमण पैदा होकर पेट में सूजन बढ़ाता है, वह अदरक के सेवन से कम हो जाता है।
  • अदरक पेट की कई अन्य बीमारियों से भी बचाव करता है।
  • पेट में गैस की शिकायत हो तो आपको अदरक का थोड़ा पाउडर लेकर इसमें सेंधा नमक, एक कप गर्म पानी और चुटकी भर हींग मिला देना चाहिए। इसे मिलाकर आपको हर दिन सुबह में पीना चाहिए। इससे आराम मिल जाएगा।

(3) शहद से

  • एंटीबैक्टीरियल गुण शहद में मौजूद होते हैं। ऐसे में पेट में जो हानिकारक जीवाणु पनपते हैं, उनसे शहद आसानी से लड़ लेता है।
  • इसके अलावा शहद में एंटीऑक्सीडेंट के साथ एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं। एसे में गैस के कारण जो पेट की परत को नुकसान पहुंचता है, उसे शहद ठीक करने में मददगार होता है।
  • यदि आपको पेट में गैस की वजह से घबराहट महसूस हो रही है तब भी आप शहद का सेवन करके राहत पा सकते हैं।
  • पेट की गैस में आपको शहद का इस्तेमाल एक गिलास गर्म पानी में दो चम्मच शहद को मिलाकर करना चाहिए। इसे आपको सुबह में अच्छी तरह से मिलाकर खाली पेट रोज पी लेना है। आपकी गैस की समस्या बहुत जल्द दूर हो जाएगी।

(4) एलोवेरा से

  • एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण एलोवेरा में पाए जाते हैं, जिससे कि पेट की अंदरूनी परत में जो सूजन आ जाती है, उसे यह ठीक कर देता है।
  • एंटीसेप्टिक के तौर पर भी एलोवेरा काम करता है। ऐसे में संक्रमण फैलाने वाले जो बैक्टीरिया होते हैं, उन्हें यह मार डालता है।
  • पेट में गैस की समस्या हो रही है, तो आपको एक गिलास पानी लेकर इसमें दो चम्मच ताजा एलोवेरा जेल मिला देना है और इसे आपको दिन भर में 1 से 2 गिलास पी जाना है। पेट के गैस में आपको जल्द आराम मिल जाएगा।

(5) गुड़ से

  • सेहत के लिए गुड़ को बहुत ही लाभकारी माना गया है।
  • ना केवल इसमें खनिज और विटामिन की प्रचुरता होती है, बल्कि फाइबर भी इसमें प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं।
  • यदि आप गुड़ का सेवन करते हैं तो इससे ना केवल आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होता है, बल्कि पेट में एसिडिटी और गैस जैसी समस्याओं में भी बड़ी राहत मिल जाती है।
  • आपके मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाने की इसमें क्षमता होती है।
  • साथ ही खून को भी गुड़ साफ करने का काम करता है।
  • पेट में यदि आपको गैस की समस्या हो रही है तो आपको गुड़ का छोटा सा टुकड़ा लेना चाहिए और इसमें 1 या 2 ग्राम खुरासानी अजवाइन मिला देना चाहिए। इसकी गोलियां बनाकर आपको दिन में एक या दो बार खाना चाहिए।
  • इसके अलावा एक और तरीका यह है कि आप दूध को गर्म कर लीजिए और एक गिलास दूध निकालकर उसमें आप चीनी की जगह गुड़ का छोटा सा टुकड़ा मिला दीजिए। आप इसे दिन में एक से दो बार पी लें। आपके पेट की गैस दूर हो जाएगी।
  • एक और तरीका इसके इस्तेमाल का यह है कि आप गुड़ का छोटा सा टुकड़ा लीजिए। इसमें एक चुटकी काला नमक और सेंधा नमक मिला दीजिए। इन्हें मिलाकर दिन में 1 से 2 बार खा जाइए। आपके पेट की गैस दूर हो जाएगी।

(6) आलू के रस से

  • आलू में फास्फोरस, कैल्शियम, खनिज, पोटेशियम और आयरन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।
  • इसी तरह से एल्केलाइन सॉल्ट भी आलू के रस में खूब होता है।
  • पेट में यदि एसिड अधिक मात्रा में जमा हो जाता है तो आलू के रस में मौजूद एल्केलाइन सॉल्ट इसे कम करने में मददगार होता है। पेट के सूजन को भी यह घटा देता है।
  • इसे इस्तेमाल करने का तरीका यह है कि सबसे पहले आप दो से तीन कच्चे आलू लेकर इसे छीलकर हाथों से ही मसल डालें। इसे आपको दबाकर इसका रस निकाल लेना है।
  • फिर आप गिलास में जमा हुए आधे गिलास रस को थोड़े से गर्म पानी में मिला दीजिए।
  • जब आप भोजन करने वाले हैं, उससे आधा घंटा पहले इसे पी लीजिए। हर दिन यदि आप दो बार इसे पीते हैं, तो आपके पेट में गैस की समस्या काफी हद तक दूर हो जाएगी।

(7) हींग से

  • एंटीसेप्टिक के साथ एंटीमाइक्रोबियल्स और एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण भी हींग में पाए जाते हैं, जिससे न केवल पेट की गैस दूर होती है, बल्कि अपच की शिकायत भी दूर हो जाती है।
  • इसके लिए आपको एक चुटकी हींग लेकर इसे कूटकर इसका पाउडर बना लेना है और थोड़े से पानी में मिलाकर इसका पेस्ट तैयार कर लेना है।
  • अपने पेट पर आप इस पेस्ट को लगाकर इसे सूखने के लिए छोड़ दीजिए। दिन में दो बार आप इसे करेंगे तो पेट की गैस दूर हो जाएगी।
  • एक और तरीका हींग के इस्तेमाल का यह है कि आप एक केला लेकर उसमें एक चुटकी हींग डाल दीजिए और उसे खा लीजिए। इससे भी पेट में गैस की समस्या दूर हो जाएगी।
  • हींग को प्रयोग में लाने का एक और तरीका यह है कि आप एक गिलास गर्म पानी लेकर इसमें एक चुटकी हींग डालकर मिला लीजिए और इसे पी जाइए। इससे पेट की गैस दूर हो जाएगी।

पेट गैस की समस्या से बचने के लिए टॉप 10 सावधानियां (Top 10 precautions to avoid Stomach Gas Problem)

  1. तली-भुनी और मिर्च मसाले वाली चीजें कम खाएं।
  2. पानी रोजाना आठ से 10 गिलास जरूर पीएं, ताकि पाचन तंत्र अच्छी तरह से काम करता रहे।
  3. जितना हो सके जंक फूड का सेवन कम करें।
  4. किसी दवा का सेवन करते वक्त पेट में यदि जलन या फिर गैस का अनुभव होता है तो डॉक्टर से बता दें। संभव है कि डॉक्टर आप की दवा बदल दे।
  5. जितना हो सके चाय और कॉफी कम ही पीएं, क्योंकि इनकी तासीर गर्म होने की वजह से ये पेट में जलन पैदा करते हैं।
  6. धूम्रपान, शराब और तंबाकू इनसे दूर रहने की कोशिश करें, क्योंकि ये पाचन तंत्र को बिगाड़ने का काम करते हैं और गैस एवं एसिडिटी की समस्या को जन्म देते हैं। किडनी और फेफड़ों को तो ये प्रभावित करते ही हैं।
  7. सुबह की सैर को अपनी दिनचर्या में शामिल कर लें।
  8. रात में भी भोजन करने के बाद थोड़ी देर टहलने की आदत डालें, ताकि आपका भोजन पच जाए।
  9. रात में भोजन करने के कम से कम 2 घंटे बाद ही सोने की आदत डालें।
  10. रोजाना 20 से 25 मिनट योगासन करना भी लाभकारी होता है। उदाहरण के लिए सूर्य नमस्कार, तितली आसन, नौकासन, पादहस्तासन और पवनमुक्तासन आदि कर सकते हैं।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!