दुनिया भर में कोरोना के जितने मरीज, उनमें से केवल 6 फीसदी की ही हुई पहचान?
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

कोरोना क्विक अपडेट

  • स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में अब तक कोरोना के 76,51,107 केस कन्फर्म हो चुके हैं, जिनमें 7,40,090 एक्टिव केस हैं, 67,95,103  लोग ठीक हो चुके हैं और 1,15,914 की मृत्यु हो चुकी है।
  • वेबसाइट वर्ल्डमीटर्स.इनफो के मुताबिक, भारत कोरोना से मृत्यु के मामले में अमेरका और ब्राजील के बाद तीसरे स्थान पर है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना से पूरी दुनिया के 235 देशों और इलाकों में अब तक 4,02,51,950 लोग संक्रमित हुए हैं और 11,16,131 लोग दम तोड़ चुके हैं।
  • कोरोना के बारे में अफवाहों से बचने और पल-पल की सही जानकारी व ख़बरें प्राप्त करने के लिए जुड़े रहें https://tanman.org/ के साथ।

Only 6% of actual infections detected worldwide?

कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के दुनिया भर में जितने मामले हैं, उनके आंकड़े जो हमारे सामने हैं, क्या वास्तव में ये इतने ही मामले हैं? एक हालिया शोध की मानें तो इसका जवाब ना है। जी हां, गोटिंजन यूनिवर्सिटी की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि दुनिया भर में जो COVID-19 के मामलों की रिपोर्टिंग की गई है, उनमें मीडिया की ओर से आंकड़ों को बहुत दबाकर दिखाया गया है।

गोटिंजन यूनिवर्सिटी (University of Göttingen) के डाॅ क्रिस्टियन बूमर (Dr. Christian Bommer) और प्रोफेसर सेबस्टियन वोल्मर (Professor Sebastian Vollmer) ने आधिकारिक रिकाॅर्ड की जांच के लिए द लांसेट इन्फेक्शियस डिजीजेस (The Lancet Infectious Diseases) में प्रकाशित एक हालिया अध्ययन से कोविड-19 की वजह से मृत्यु दर और मौत के समय तक के अनुमानों को प्रयोग में लाया गया है।

मामले तो करोड़ों में हैं

  • आंकड़े बताते हैं कि देशों ने कोरोना संक्रमण के औसतन केवल 6 फीसदी मामले ही खोज कर निकाले हैं, जबकि दुनिया भर में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले कई करोड़ तक पहुंच गये होंगे।
  • कम संख्या में और देरी से टेस्टिंग करने का ही नतीजा है कि इटली और स्पेन में कोरोना वायरस की वजह से होने वाली मौतों का आंकड़ा जर्मनी से भी अधिक रहा है।
  • कोरोना के पहचाने गये मामलों का प्रतिशत जर्मनी के 15.6 प्रतिशत की तुलना में इटली में केवल 3.5 प्रतिशत और स्पेन में केवल 1.7 प्रतिशत ही रहा है।
  • यूएस में तो इसकी पहचान करने की दर केवल 1.6 प्रतिशत और ब्रिटेन में भी केवल 1.2 प्रतिशत ही है।
  • इन सबके ठीक विपरीत दक्षिण कोरिया ने अपने देश में कोरोना संक्रमण के आधे से भी अधिक मामलों की पहचान कर ली है।

मरीजों की संख्या का अनुमान

अध्ययनकर्ताओं ने अनुमान लगाया है कि

  • गत 31 मार्च को जर्मनी में कोरोना संक्रमितों की संख्या 4 लाख 60 हजार की थी।
  • इसी प्रक्रिया के आधार पर उन्होंने अनुमान लगाया कि यूएस में मरीजों की एक करोड़ को पार कर गई है।
  • स्पेन में मरीजों की संभावित संख्या 50 लाख से अधिक की है।
  • इटली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 30 लाख होने का अनुमान है।
  • यूके में इनकी तादाद 20 लाख होने का अनुमान है।
  • इसी दिन जाॅन हाॅपकिन्स यूनिवर्सिटी ने बताया कि दुनिया भर में कन्फर्म मामलों की संख्या 9 लाख से भी कम थी, जिससे पता चल रहा है कि अधिकतर मामलों की पहचान ही नहीं हो रही है।

क्या कह रहे अध्ययनकर्ता?

  • गोटिंजन यूनिवर्सिटी में डेवलपमेंट इकोनाॅमिक्स के प्रोफेसर सबस्टियन वोल्मर का कहना है कि इस अध्ययन के परिणाम से यही निष्कर्ष निकलता है कि सरकारों को और नीति निर्माताओं को मामलों के विश्लेषण के अधिक सर्तकता बरतने की जरूरत है। विभिन्न देशों में जो वास्तविक और टेस्टिंग वाले मामलों में जितना बड़ा अंतर देखने को मिला है, उससे कोरोना के खिलाफ जंग में कोई खास लाभ नहीं मिलने वाला है।
  • वोल्मर के अनुसार सभी देशों में नये संक्रमण के मामलों को पकड़ने के लिए टेस्टिंग को बढ़ाया जाना बहुत जरूरी है।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!