कैंसर और डायबिटीज समेत इन 11 बीमारियों में फायदेमंद हैं सरसों के बीज
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

Top 11 Benefits of Mustard Seeds

सरसों का इस्तेमाल प्रायः हर घर में किया जाता है। सरसों के अलग-अलग हिस्सों का इस्तेमाल कैंसर (cancer) से लेकर डायबिटीज (Diabetes) एवं अन्य कई गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए भी होता है। आज हम आपको बता रहे हैं सरसों के बीज में पाए जाने वाले पोषक तत्वों और इसके 11 फायदों के बारे में।

सरसों के बीज में पाए जाने वाले पोषक तत्व

  • फास्फोरस
  • पोटैशियम
  • कैल्शियम
  • मैग्नीशियम
  • फाइबर
  • विटामिन ए
  • फोलेट

सरसों के बीज के टॉप 11 फायदे

सरसों के बीज में इतने सारे लाभ छिपे हुए हैं, जिनके बारे में जानना हर आदमी के लिए जरूरी है, क्योंकि अगर अपने किचन में रखकर भी आप इसके फायदों के बारे में न जान पाए, तो यह तो कोई बात नहीं हुई। इसलिए आइए जानते हैं इसमें छुपे ऐसे ही 11 बड़े फायदों के बारे में…

(1) कैंसर से बचाव (Protection from Cancer)

  • मूत्राशय के कैंसर, गर्भाशय ग्रीवा कैंसर और कोलन कैंसर से सरसों का बीज इसमें मौजूद ग्लूकोजिनोलेट नामक तत्व की वजह से बचाता है।
  • कैंसर कोशिकाओं के निर्माण को तो ये बाधित करते ही हैं, साथ ही इन्हें बढ़ने से भी रोक देते हैं।

(2) स्वस्थ रहता है दिल (Healthy Heart)

  • Journal of Preventive Cardiology में प्रकाशित एक अध्ययन में यह पाया गया है कि सरसों के बीज में ओमेगा-3 एसिड की मौजूदगी होती है।
  • इसकी वजह से छाती के दर्द में तो यह लाभदायक होता ही है, साथ ही दिल की बीमारियों को भी दूर रखने में यह सहायक होता है

(3) सोरायसिस में लाभकारी (Beneficial in Psoriasis)

  • सरसों के बीज शरीर में ग्लूटाथियोन पेराक्साइड्स, कैटल्स और सुपरऑक्साइड डिमूटेज जैसे एंजाइमों की गतिविधियों को और सक्रिय कर देते हैं, जिसकी वजह से सोरायसिस में आराम मिलता है।
  • सोरायसिस के कारण जो शरीर में कई जगहों पर सूजन हो जाती है या फिर घाव बन जाते हैं, इनसे बचाने या फिर इनसे राहत दिलाने में सरसों के बीज बड़े कारगर साबित होते हैं।

(4) दमे में पहुंचाता है लाभ (Beneficial in Asthama)

  • लौह तत्व, मैग्नीशियम, सेलेनियम और तांबा जैसे खनिज तत्वों की मौजूदगी के कारण सरसों के बीज से दमे की समस्या में भी आराम मिलता है।
  • थोड़ा सा कपूर यदि आप सरसों के तेल में मिलाते हैं और इससे मालिश करते हैं तो कफ को यह कम कर देता है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है और दमे के उभरने के दौरान राहत मिलती है।

(5) डर्मेटाइटिस से बचाता है (Protecting from Dermatitis)

  • चर्म रोग में भी सरसों के बीच बड़े काम आते हैं।
  • Baskent और Inonu यूनिवर्सिटी के शोध में पता चला है कि डर्मेटाइटिस से संबंधित लक्षणों को सरसों के बीज कम कर देते हैं।

(6) त्वचा के लिए लाभदायक (Useful for Skin)

  • आपकी खूबसूरती को निखारने में सरसों का बीज भी बड़ा योगदान दे सकता है।
  • इसके लिए आपको एक मुट्ठी सरसों के बीज को एक लीटर नारियल तेल में उबाल लेना है और ठंडा होने पर चेहरे पर लगाना है। इससे आपकी त्वचा साफ होकर दमकने लगेगी।

(7) कई तरह के दर्द से दिलाता है निजात (Relief in Pain)

  • चाहे मांसपेशियों का दर्द हो या फिर गठिया या लकवे का, सरसों के बीज को पीसकर इसका लेप बनाकर यदि शरीर पर लगाया जाए तो दर्द दूर हो जाता है।
  • ध्यान बस इस बात का रखें कि कोई पतला कपड़ा शरीर पर रखकर लेप लगाएं, क्योंकि तासीर इसकी बहुत गर्म होती है।

(8) रजोनिवृत्ति में भी फायदेमंद (Beneficial in Menopause)

  • हड्डियों में सरसों के बीच मैग्नीशियम को बढ़ाते हैं। इससे रजोनिवृत्ति के दौरान जो हड्डियों को नुकसान पहुंचता है, उसकी भरपाई हो जाती है।
  • साथ ही इस दौरान महिलाओं को जो ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा होता है, उसे भी यह कम कर देता है।
  • इसलिए महिलाओं को सरसों के साग का सेवन करना चाहिए।

(9) डायबिटीज से करता है बचाव (Protection from Diabetes)

  • डायबिटीज के मरीजों को सरसों के साग का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • सीरम ग्लूकोज एवं ग्लाइकोसाइलेटेड प्रोटीन के स्तर को शरीर में सरसों के बीज कम देते हैं।
  • यही नहीं, डायबिटीज के मरीजों में जो ऑक्सीडेटिव तनाव के कारण शरीर को नुकसान पहुंचता है, उससे भी सरसों के बीज बचाते हैं।

(10) दाद में देता है राहत (Relief in Ringworm)

  • सरसों के बीज को पीसकर आपको इसका लेप तैयार कर लेना चाहिए और दाद वाली जगह पर उसे गर्म पानी से साफ करके लगाना चाहिए।
  • सरसों के बीज बैक्टीरिया के खिलाफ लड़ते हैं। इसलिए दाद इससे दूर हो जाता है।

(11) कोलेस्ट्राॅल को रखता है नियंत्रण में (Cholesterol under control)

  • हमारे शरीर में पाचन तंत्र में कोलेस्ट्राॅल को अपने में समेटे रखने वाले बाइल एसिड की मौजूदगी होती है।
  • सरसों का बीज इसे बांधकर बाहर निकाल देता है।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!