बवासीर से लेकर कुष्ठ रोग तक का रामबाण इलाज है यह फूल
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

This flower is a cure from hemorrhoids to leprosy

कनेर जिसे कि ओलियंडर (Oleander) के नाम से भी जानते हैं, यह बगीचों में दिख जाता है। मुख्य रूप से यह ऊपरी गंगा के मैदानों में मिलता है। यहां हम आपको इसके फायदों के बारे में बता रहे हैं कि किस तरह से इससे कई बीमारियों का घर में ही इलाज किया जा सकता है।

  1. दाद (Ringworm) की समस्या है तो कनेर की जड़ को पानी के साथ मिला लेना चाहिए और दाद पर वैसे ही इसका लेप करना चाहिए जैसे कि चंदन (Sandalwood) का करते हैं। एक सप्ताह यदि ऐसा करेंगे तो दाद पूरी तरह से मिट जायेगा।
  2. कुष्ठ रोग (leprosy) की यदि समस्या है तो इसके पंचांग को पीस लें और उसके बाद इसे उबाल लें। फिर इसके उबले हुए जल से घाव को धोएं। इसके बाद साफ कपड़े से घाव को साफ कर लें और सुखा लें। एक कपड़े में कनेर का तेल चुपड़ दें और उस घाव पर इसकी पट्टी लगा दें। महीनों तक ऐसा करते रहने से आराम मिल जाता है। कनेर का तेल तैयार करने के लिए 250 ग्राम सरसों का तेल, एक किलो कनेर के पंचांग का काढ़ा और 100 ग्राम कनेर की जड़ की छाल की चटनी लें। इन्हें एक कढ़ाही में पका लें। पानी खत्म होने के बाद जो तेल बच जाता है, उसे ही आपको छानकर उपयोग में लाना है।
  3. बवासीर (Hemorrhoids) में यदि मस्से में सूजन आ गई हो या फिर टीस हो तो आपको कनेर की जड़ की छाल को उसी तरह से घिसकर लेप करना है, जैसे कि चंदन का करते हैं। इससे आराम मिल जायेगा।
  4. जहरीले फोड़े (Toxic boils) में कनेर के पंचांग के उबले जल से घाव को धोकर पोछ लें। इस पर कनेर के तेल में डूबी हुई कपड़े की पट्टी लगा दें। एक सप्ताह तक ऐसा करेंगे तो लाभ दिखने शुरू हो जाएंगे। वैसे, घाव को सुखाने और भरने वाली दवा भी साथ में लेते हैं तो आराम और जल्दी मिलेगा।
  5. दांतों से खून (Tooth bleeding) आने की समस्या हो रही हो तो सफेद कनेर की डंठल से दांतों को साफ करना चाहिए। इससे खून निकलना भी बंद हो जाता है और दांत भी मजबूत बनते हैं।
  6. सफेद कनेर (white oleander) के फूल को पीसकर चेहरे पर लगाने से इससे न केवल त्वचा (skin) की रंगत में निखार आता है, बल्कि चेहरे में कमाल की चमक भी आ जाती है।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!