सूर्यग्रहण के सूतक काल में भूल से भी न करें ये 9 काम, पढ़ें ये 3 मंत्र
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

Don’t do these 9 works during Sootak Kaal of Solar Eclipse

नई दिल्ली, 20 जून। रविवार को लगने जा रहे साल के पहले सूर्यग्रहण के लिए सूतक काल शुरू हो चुका है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले ही सूतक काल शुरू हो जाता है और सूर्यग्रहण समाप्त होने तक रहता है।

आपको बता दें कि सूर्यग्रहण रविवार सुबह 9 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और 12 बजकर 10 मिनट पर अपने चरम पर होगा। सूर्यग्रहण दोपहर 3 बजकर 4 मिनट पर समाप्त होगा।

यह सूर्य ग्रहण ऐसे समय में पड़ रहा है, जब राहु और केतु समेत कुल छह ग्रह वक्र अवस्था में हैं। इसलिए ज्योतिषी बताते हैं कि भारत सहित कई देशों पर इसका नकारात्मक असर पड़ सकता है।

सूतक काल में पढ़ें ये मंत्र

आपको बता दें कि सूतक काल के दौरान मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाते हैं और वहां पूजा-पाठ भी नहीं किया जाता है। सूतक के दौरान इसके नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिए घर में ही आप इन मंत्रों का जाप कर सकते हैं-

  • ॐ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्न: सूर्य: प्रचोदयात।
  • “विधुन्तुद नमस्तुभ्यं सिंहिकानन्दनाच्युत। दानेनानेन नागस्य रक्ष मां वेधजाद्भयात्॥
  • तमोमय महाभीम सोमसूर्यविमर्दन। हेमताराप्रदानेन मम शान्तिप्रदो भव॥

सूतक के दौरान भूल से भी न करें ये 9 काम-

  1. सूतक काल में भोजन नहीं करना चाहिए। बच्चे, बूढ़े और रोगी इसके अपवाद हैं।
  2. सूतक काल के दौरान कोई भी नया काम या शुभ काम न करें।
  3. इस दौरान न तो पूजा-पाठ करना चाहिए, न ही भगवान की मूर्तियों को हाथ से छूना चाहिए।
  4. सूतक काल के दौरान पेड़, पौधों और पत्तों को नहीं तोड़ें। तुलसी के पत्ते सूतक काल शुरू होने से पहले ही तोड़कर रख लें, क्योंकि सूतक काल के दौरान अगर किसी को खाना खिलाना पड़े तो उसमें तुलसी के पत्ते जरूर डालना चाहिए।
  5. सूतक काल लगने के बाद मांस-मछली, शराब या सिगरेट आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।
  6. गर्भवती महिलाओं को सूर्यग्रहण नहीं देखना चाहिए। यदि संभव हो तो ग्रहण के दौरान घर से बाहर भी नहीं निकलना चाहिए। मान्यता है कि गर्भवती मां के ग्रहण देखने से उनके गर्भ में पल रहे बच्चे को शारीरिक या मानसिक परेशानी हो सकती हैं।
  7. ग्रहण काल में गर्भवती महिलाओं को धातुओं से बना किसी किस्म का जेवर भी नहीं पहनना चाहिए।
  8. इस दौरान नुकीली चीजों, जैसे कैंची, चाकू, कांटा या सुई का इस्तेमाल करना शुभ नहीं होता है।
  9. सूतक काल के दौरान बालों में कंघी करना, दातुन करना और नाखून काटना भी अशुभ माना जाता है।



error: Content is protected !!