हेपेटाइटिस सी के कारण, लक्षण और उपचार
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

Reasons, symptoms and treatment of Hepatitis C

हेपेटाइटिस सी नामक बीमारी दरअसल हेपेटाइटिस सी वायरस से होती है। यह वास्तव में फैलने वाली और एक गंभीर बीमारी है, जिसमें लीवर बुरी तरह से प्रभावित होता है। अमेरिका की तो 39 लाख आबादी इसकी चपेट में रहती है। भारत में भी करीब 35 लाख लोग इसका शिकार बताये जाते हैं। यह एक ऐसी बीमारी है, जो किसी को भी हो सकती है। काफी हद तक अब इसका इलाज ढूंढ़ लिया गया है। यहां हम आपको हेपेटाइटिस सी लक्षण और इसके इलाज के बारे में बता रहे हैं।

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे फेसबुक पेज पर जाकर इसे लाइक करें

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर इसे सब्सक्राइब करें


हेपेटाइटिस सी के कारण

  1. यदि आप अधिक मसालेदार और तैलीय भोजन अपने आहार में ले रहे हैं, तो यह इस बीमारी की वजह बन सकता है।
  2. ऐसे भोजन जो बेहद कठोर होते हैं, आपको उनके सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि इसे पचाने में लिवर की सांसें फूल जाती हैं। ऐसे में यदि यह नहीं पच पाता है, तो यहीं पड़े-पड़े सड़कर बीमारी वाले कीटाणुओं को जन्म दे देता है।
  3. रक्त चढ़ाने से भी कई बार यह बीमारी हो जाती है।
  4. पैरासिटामॉल एवं ब्यूटाजोलीडीन जैसी कुछ दवाईयां भी यदि आप अधिक लेते हैं, तो इनकी वजह से भी कई बार यह बीमारी हो जाती है।
  5. सुइयों का कई लोगों द्वारा उपयोग से भी यह बीमारी फैलती है।
  6. किसी भी तरह का नशा करने, धूम्रपान करने और कई बार मांसाहारी भोजन अधिक करने से भी इस बीमारी की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है।

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे फेसबुक पेज पर जाकर इसे लाइक करें

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर इसे सब्सक्राइब करें


हेपेटाइटिस सी के लक्षण

  1. जी मिचलाता है। साथ ही भूख भी कम हो जाती है।
  2. शरीर तुरंत थकने लगता है।
  3. मूत्र का रंग गहरा जाता है।
  4. बुखार आने लगता है।
  5. पेट में दर्द की शिकायत होने लगती है।
  6. शरीर के साथ आंखों में भी पीलापन नजर आने लगता है।
  7. मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द का अनुभव होने लगता है।
  8. कभी-कभी पैर सूज जाते हैं और वजन भी कम हो जाता है।

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे फेसबुक पेज पर जाकर इसे लाइक करें

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर इसे सब्सक्राइब करें


इलाज के घरेलू उपाय

  1. बीमारी का पता चलने पर कुछ दिनों तक फलों का ज्यादा-से-ज्यादा सेवन करें।
  2. इस दौरान शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें।
  3. जंक और फास्ट फूड से पूरी तरह से दूरी बना लें।
  4. तुलसी के पत्ते को पीस लें। इसमें फिर गन्ना का रस मिला दें। इसे करीब 20 दिनों तक पीने से लाभ मिलने लगता है।
  5. पालक, इलायची, नींबू, टमाटर, किशमिश, बादाम और आंवला का सेवन जरूर करें।
  6. तुलसी के पत्ते को पीस लें। इसमें फिर मूली का रस मिला दें। इसे पीने से भी फायदा मिलता है।
  7. ध्यान रखें कि फ्रेश इंजेक्शन ही हमेशा लगवाएं। संक्रमित इंजेक्शन इसका कारण बन सकता है। नाक छिदवाने और टैटू बनवाते वक्त भी सुईयों का ध्यान रखें कि कहीं ये संक्रमित तो नहीं हैं।
  8. बेहतर होगा कि संबंध बनाने वक्त सुरक्षा का ख्याल रखें।
  9. चावल के दाने से थोड़े बड़े कपूर के टुकड़े के साथ शहद मिलाकर मरीज को खिलाने से भी इसमें लाभ मिलता है।

तो दोस्तो, हमारा ये आर्टिकल आपको कैसा लगा? अपनी राय कमेंट के रूप में ज़रूर ज़ाहिर करें। और अगर ये आर्टिकल आपको पसंद आया हो, तो इसे अन्य लोगों के साथ भी शेयर करें। न जाने कौन-सी जानकारी किस ज़रूरतमंद के काम आ जाए।

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे फेसबुक पेज पर जाकर इसे लाइक करें

कृपया यहां क्लिक करें और हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर इसे सब्सक्राइब करें


error: Content is protected !!