ऐसे करें प्रोस्टेट कैंसर की जल्द पहचान, ताकि नहीं जाए किसी की जान
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

How To Identify Prostate Cancer At Early Stage?

प्रोस्टेट कैंसर (Prostate Cancer) पुरुषों में होने वाले कैंसर में दूसरे नंबर पर आता है। साथ ही सबसे खतरनाक कैंसर में भी यह दूसरे नंबर पर आता है। एक आंकड़े के मुताबिक, 2018 में इस कैंसर के 13 लाख नये मामले प्रकाश में आये थे। ऐसे में इससे बचने के उपायों और इसकी चपेट में आने पर इसके उपचार के बारे में जानना बहुत ही जरूरी है।

क्या है प्रोस्टेट कैंसर? (What is Prostate Cancer)

  1. प्रोस्टेट ग्रंथि जो कि पुरुषों में प्रजनन को लेकर एक महत्वपूर्ण अंग है और जो वीर्य (sperm) से जुड़े तरल पदार्थ के बनने में मददगार होती है, प्रोस्टेट कैंसर उसे ही प्रभावित करता है।
  2. यह बीमारी क्यों होती है, अब तक इसके बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिल पाई है।
  3. सामान्यतः 60 साल से अधिक की उम्र में होता है, मगर आज के जीवनशैली (lifestyle) की वजह से किसी भी उम्र में हो सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण (Symptoms of Prostate Cancer)

  1. मूत्र (urine) त्याग करने में परेशानी।
  2. पेशाब में खून (blood) आना।
  3. पेशाब करते वक्त दर्द होना।
  4. मूत्र नली का पूरी तरह से बंद हो जाना।
  5. मूत्र न निकलने पर पेशाब की थैली भरने से सिरदर्द (headache), उल्टी (vomiting), बेचैनी और सुस्ती का अनुभव।
  6. पीठ में या कूल्हों में दर्द होना।
  7. वजन (weight) में अचानक से कमी आना।
  8. वीर्य में खून आना।

प्रोस्टेट कैंसर से ऐसे करें बचाव (Ways to protect yourself from Prostate Cancer)

  1. प्रोस्टेट स्पेसिफिट एंटीजेन (PSA) नामक एक खून की जांच इसका पता लगाने के लिए होती है। इसे हर दो साल में एक बार करवा लें। यह प्रोस्टेट ग्रंथि से निकलने वाला प्रोटीन है। शुरुआत में पता लगने पर इलाज में ज्यादा दिक्कत नहीं आती है।
  2. सिगरेट (cigarette) और शराब (alcohol) से दूरी बना लें, क्योंकि प्रोस्टेट ग्रंथि पर ये बेहद बुरा प्रभाव डालते हैं।
  3. मांसाहारी भोजन का सेवन जरूरत से ज्यादा न करें।
  4. तेल और घी से बनी चीजों का भी सेवन नियंत्रित मात्रा में ही करें।
  5. जरूरत से ज्यादा कैल्शियम (calcium) भी न लें।
  6. प्रदूषण (pollution) से भी प्रोस्टेट कैंसर हो सकता है। ऐसे में इससे बचने के लिए बाहर निकलते वक्त नाक को ढक कर निकलें और स्वच्छ वातावरण में रहने की कोशिश करें।
  7. नियमित कसरत करके रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखें, ताकि प्रोस्टेट कैंसर आपको अपनी चपेट में न ल सके।

प्रोस्टेट कैंसर का उपचार (Treatment of Prostate Cancer)

  1. रेडियो फ्रीक्वेंसी एब्लेशन यानी कि आरएफए (RFA) से ट्यूमर के आकार को घटाकर सर्जरी के लिए जरिये इसे बाहर निकाल लिया जाता है।
  2. ट्यूमर यदि 4 सेमी से अधिक बड़ा हो, तो फिर आरएफए की जगह केमो एंबोलाइजेशन की मदद से ट्यूमर का आकार घटाया जाता है। इसमें भी आरएफए की तरह शल्य क्रिया नहीं होती है।
  3. आरएफए कैंसर कोशिकाओं को नष्ट भी करता है। इसका कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता है।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!