बंद नाक और साइनस की समस्या का यूं करें उपचार
कृपया इसे शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

How to cure stuffy nose and sinuses problems?

हमारे शरीर में जो पांच ज्ञानेंद्रियां हैं, उनमें नाक (nose) बेहद महत्वपूर्ण स्थान रखता है। नाक से जुड़ी कई तरह की परेशानियां शरीर में हो सकती हैं। इनमें सांस लेने में रुकावट होना (disturbance in breathing), नाक की हड्डी का बढ़ना व तिरछा हो जाना, एलर्जी का शिकार होना (allergy) एवं साइनस (sinuses) का भर जाना शामिल है। यहां हम आपको साइनस के बारे में विस्तार से जानकारी दे रहे हैं।

क्या है साइनस? (What is sinuses)

  • साइनस का संक्रमण (infection) बड़ा ही खतरनाक होता है। इसमें साइनस की झिल्ली में सूजन आ जाती है।
  • साथ ही साइनस की जगह मवाद या बलगम (mucus) भर जाते हैं।
  • ऐसे में साइनस, जो कि खोपड़ी जमा एक तरह की कैविटी है, उसका रास्ता अवरुद्ध हो जाता है, जिस वजह से सांस लेने में दिक्कत होने लगती है।
  • साइनस हमारे शरीर के लिए इसलिए जरूरी होते हैं, क्योंकि ये सिर को हल्का बनाए रखने में मदद करते हैं।
  • यह एक तरह की थैली के रूप में काम करता है, जिससे होकर सांस में ली गई हवा फेफड़ों तक जाती है एवं गंदगी यहीं पर रोक दी जाती है। फिर गंदगी बाहर फेंक दी जाती है।
  • ऐसे में जब बलगम साइनस का रास्ता रोकता है तो साइनोसाइटिस (sinusitis) नामक बीमारी हो जाती है।
  • इससे ना केवल आपकी किसी चीज को सूंघने (smell) और चखने (taste) की क्षमता प्रभावित होती है, बल्कि नींद भी बुरी तरीके से प्रभावित होने लगती है।
  • साइनस की बीमारी आमतौर पर बहुत से लोगों को हो जाती है। खासकर नमी वाले वातावरण में यह ज्यादा बढ़ती है।
  • साइनस का सही समय पर इलाज कराना बहुत ही जरूरी है।
  • इससे खासतौर पर महिलाएं ज्यादा प्रभावित होती हैं।
  • शुरुआत में तो डॉक्टर दवाई से ही इसका इलाज करते हैं, मगर यदि यह ज्यादा बढ़ जाए तो फिर सर्जरी करानी पड़ती है।

साइनस के लक्षण (Symptoms of Sinus)

  • सिर में हमेशा दर्द (headache) महसूस होता है।
  • सिर भारी-भारी सा लगता है।
  • आवाज में बदलाव आ जाता है।
  • हल्का बुखार (fever) रहने लगता है।
  • नाक और गले में बलगम भरे रहते हैं।
  • दांत (teeth) में भी दर्द हो जाता है।
  • चेहरा हल्का सूज जाता है।
  • नाक से पीला रंग का द्रव निकलता रहता है।
  • तनाव (tension) भी हावी हो जाता है।

साइनस के लिए घरेलू उपाय (Home remedies for Sinuses)

  • कपड़े को गर्म पानी में डालकर हल्का गर्म करके या फिर पानी की गर्म बोतल से अपने गालों की सिकाई करने से आराम मिलता है।
  • प्याज (onion) और लहसुन (garlic) को आपको अपने भोजन में जरूर शामिल कर लेना चाहिए। आप इन्हें कच्चा खाएंगे तो साइनस में इससे बड़ा आराम मिलेगा।
  • भाप लेने से भी साइनस में आराम मिलता है। इस दौरान आपको कूलर, पंखा और एसी आदि बंद कर देने चाहिए। सिर पर एक कपड़ा ढक लें। उसके बाद नाक और मुंह से सांस भरते हुए करीब 10 मिनट तक सांस लेना जरूरी होता है। साथ ही भाप लेने के बाद 20 मिनट तक आपको हवा में नहीं जाना चाहिए।
  • साइनस में गाजर का जूस पीना भी बेहद असरदार माना जाता है। साथ में इसमें पालक (palak), खीरा (cucumber) या चुकंदर (beetroot) का रस भी मिला सकते हैं।

ऐसे खोलें बंद नाक (How to get rid of stuffy nose)

  • यदि आप लहसुन का रस दो से तीन बूंद नाक में टपका लेते हैं तो इससे बंद नाक आसानी से खुल जाते हैं।
  • यदि आपको एलर्जी से संबंधित समस्याएं परेशान करती रहती हैं तो आपको एक महीने तक एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद और आधा चम्मच नींबू (lemon) का रस मिलाकर लगातार पीना चाहिए। इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity power) संतुलित हो जाएगी और एलर्जी से जुड़ी परेशानियां आपको परेशान करना बंद कर देंगी।
  • बंद नाक की समस्या से यदि आप परेशान हैं तो 10 ग्राम अजवायन को एक साफ कपड़े में ले लीजिए और इसे तवे पर हल्का गर्म कर लीजिए। इसके बाद इसे सूंघने की कोशिश कीजिए। इससे एक तो बंद नाक खुल जाएगी। साथ ही गंदा पानी निकल जाएगा और आपका सिर हल्का लगने लगेगा।
  • कलौंजी के तेल को यदि आप नाक के अंदर और बाहर लगाते हैं तो इससे भी बंद नाक खुल जाते हैं।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।



error: Content is protected !!