बुजुर्गों की आंखों की रोशनी छीन लेती है ये खतरनाक बीमारी
कृपया शेयर करें ताकि अधिक लोग लाभ उठा सकें

If you have crossed 60 years of age, please be ware of Macular Degeneration

उम्र बढ़ने के साथ शरीर कमजोर होने लगता है, जिससे कई तरह की बीमारियां घेर लेती हैं। इन्हीं में से एक है मैक्यूलर डिजनेरेशन (Macular Degeneration)। यह बीमारी एक बार किसी बुजुर्ग को हो गई, तो इस बात की पूरी आशंका रहती है कि उनकी आंखों की रोशनी पूरी तरह से चली जायेगी। मुख्य रूप से यह बीमारी 60 साल से अधिक के लोगों को ही अपना शिकार बनाती है।

क्या है मैक्यूलर डिजनेरेशन (Macular Degeneration)?
यह मुख्य रूप से आंखों के रेटिना को क्षतिग्रस्त कर देने वाली बीमारी है, जो अंधेपन की स्थिति तक ले जा सकती है। बताया जाता है कि दुनियाभर में लगभग 8.7 फीसदी आबादी इसकी चपेट में है।

ड्राई मैक्यूलर डिजनेरेशन (Dry Macular Degeneration)

  1. आंखों के अंदर मैक्युला में पीले रंग के पदार्थों का जमाव।
  2. ज्यादा बढ़ जाने पर चीजों को स्पष्ट तरीके से देखने और कुछ पढ़ने में समस्या।
  3. ज्यादा बढ़े तो आंखों की संबंधित कोशिकाओं के क्षतिग्रस्त होने या फिर पूरी तरह से मृत होने की आशंका।

वेट मैक्यूलर डिजनेरेशन (Wet Macular Degeneration)

  1. आंखों में मैक्युला के नीचे स्थित कोरोज में रक्त वाहिकाएं बढ़ जाती हैं।
  2. सूजन की वजह से इन रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचता है।
  3. आंखों की सतह पर खून के चकते भी दिखने लगते हैं।
  4. रेटिना से खून और कुछ द्रव बाहर आने लगते हैं।
  5. चकतों की वजह से देखने में परेशानी होने लगती है।
  6. तनाव बढ़ने लगता है और मतिभ्रम की स्थिति भी पैदा होने लगती है।

ऐसे हो जाते हैं मैक्यूलर डिजनेरेशन (Macular Degeneration) के शिकार

  1. अनुवांशिक तरीके से।
  2. अधिक उम्र में यानी कि 60 साल की उम्र के बाद।
  3. अधिक वजन होने पर इसके तेजी से फैलने की आशंका।
  4. धूम्रपान करने पर या फिर सेकेंड हैंड स्मोकिंग का शिकार होने पर।
  5. दिल के मरीजों में इसका खतरा अधिक होता है।

मैक्यूलर डिजनेरेशन (Macular Degeneration) का उपचार
इसका कोई उपचार नहीं है। उम्र बढ़ने पर आंखों की नियमित जांच बहुत जरूरी है, ताकि इसकी रोकथाम हो सके। बीमारी की चपेट में आने के बाद इसका इलाज मुश्किल है।

अस्वीकरण (Disclaimer):

इस वेबसाइट पर प्रकाशित स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां केवल सूचनात्मक उद्देश्य के लिए हैं और ये पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं हैं। यदि आप किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहे हैं या ऐसी किसी समस्या का आपको संदेह है, तो अपने पारिवारिक चिकित्सक या अन्य उपयुक्त चिकित्सक से परामर्श करें। यदि आप किसी हेल्थ इमरजेंसी का सामना कर रहे हैं या इसका आपको संदेह है, तो कृपया अपने नजदीकी अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जाएं।


error: Content is protected !!